world milk day

दोस्तों, जैसा कि आप सब जानते हैं दूध world milk day हमारी जिन्दगी का एक अहम हिस्सा है। बच्चों के लिए तो दूध का सेवन करना बेहद जरूरी है। दूध पीने की अच्छाई चाहे कितनी भी बच्चों को बता दो, लेकिन वो दूध न पीने के बहाने बना ही लेते हैं। अगर बच्चों को एक पल के लिए पढ़ने को कह दिया जाए और आप कहें पढ़ाई करो वरना मार पड़ेगी। तो वो नहीं बैठेंगे पढ़ने। हां अगर आपने उन्हें ये कह दिया कि पढ़ने नहीं बैठे तो दो गिलास दूध पीना पड़ेगा। तब तो भईया बच्चे अपनी शामत समझकर तुरंत किताब खोलकर बैठ जाएंगे। बच्चे दूध के नाम से ऐसा भागते हैं जैसे कोई भूत देख लिया हो।

दूध को अपना सबसे बड़ा दुश्मन मानते हैं बच्चे। बच्चों, यह दूध आपका दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त है। दूध पीने से आपको कैल्शियम world milk day मिलता है जो आपकी हड्डियों को मजबूत बनाता है। केवल बच्चों के लिए ही नहीं बड़ों के लिए भी दूध पीना या दूध का किसी भी प्रकार से सेवन करना बहुत लाभदायक होता है। किसी को सादा दूध पीना पसंद है तो कोई दूध वाली चाय पीना पसंद करता है। कहीं कोई व्यक्ति दूध में हल्दी डालकर पीने का शौकीन है तो कोई दूध को मिल्कशेक के रूप में प्रयोग करता है। ऐसे भी कुछ लोग हैं

दोस्तों, जो ब्रेकफस्ट में भी एक गिलास दूध का जब तक ना ले लें उनका दिन ही नहीं बनता। दूध के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गनाइजेशन  world milk day की ओर से हर वर्ष 1 जून 2001 को विश्व दुग्ध दिवस  world milk day मनाया जाता है। हम जानते हैं आप में से बहुत से ऐसे लोग होंगे जो केवल इस लिए दूध पीना चाहते हैं कि उनकी हड्डियों को मजबूती मिल सके। परंतु दोस्तों, दूध में केवल कैल्शियम ही नहीं होता बल्कि दूध में इसके अलावा भी कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो हमें फिट एंड फाइन बनाते हैं। अंदर से भी और बाहर से भी। ये पोषक तत्व हमें कई प्रकार से फायदा पहुंचाते है

एक रिसर्च में पाया गया है कि दूध पीने को लेकर भले ही कई वैज्ञानिकों में मतभेद हों कि लेकिन यह बात प्रूफ हो चुकी है कि दूध हमारी सेहत को अच्छा बनाने में मुख्य भूमिका world milk day निभाता है। इसके अलावा दूध का सेवन करने वाले लोगों में हृदय रोग कई तरह का कैंसर, डायबिटीज़् से संबंधित समस्या और मोटापे की शिकायत नहीं रहती है। वैसे तो ज्यादातर लोग भैंस का ही दूध पीना पसंद करते हैं। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं बाजार में मिलने वाले विभिन्न प्रकार के दूध के बारे में जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

विश्व दुग्ध दिवस | World Milk Day

1. गाय का दूध world milk day

फ्रेंड्स, गाय को हिन्दू धर्म में माता का स्थान दिया गया है। इतना ही नहीं, शास्त्रों के अनुसार गौ माता में करीब 33 करोड़ देवी देवताओं का वास होता है। केवल हिन्दुओं में ही नहीं, बल्कि अन्य कुछ धर्मों में भी गाय को पवित्र माना गया है। लोग गायों की पूजा करते हैं। गो माता को चारा खिलाते हैं और उनसे अपने जीवन में सुख समृद्धि देने का आशीर्वाद मांगते हैं। अब इसे भ्रम कहें या कुछ और लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि आंत द्वारा लैक्टोज को अब्जॉर्ब न कर पाने तथा एलर्जी  world milk day के चलते छोटे बच्चों के लिए गाय के दूध सही नहीं है।

लेकिन विभिन्न शहरों के अलग-अलग लोगों पर की गई स्टडी से ये बात साबित हुई है कि गाय के दूध में नॉन.डेयरी मिल्क world milk day के मुकाबले बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है। साथ ही इसमें विटामिन बी12ए विटामिन ईए विटामिन डी और कई मिनरल्स भी मौजूद होते हैं जैसे. फॉस्फोरस और मैग्नीशियम। इसके अतिरिक्त गाय के दूध में कई एंटीऑक्सिडेंट्स भी होते हैं। गाय का दूध रोगप्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। जिन्हें बाल झड़ने की समस्या होती है उन लोगों को गाय का दूध पीने की सलाह दी जाती है। डिस्लेक्सिया नामक बीमारी से बचाने के लिए भी गाय का दूध फायदेमंद है। इससे आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

Read Also: वन संरक्षण के बेहतरीन तरीके | Forest in Hindi

2. भैंस का दूध

अगर दुनिया भर में दूध के उत्पादन पर नजर डालें तो भैंस का दूध दुनियाभर में दूध के कुल उत्पादन का लगभग 12 प्रतिशत हिस्सा है। यह गाय के दूध से भी काफी हद तक पौष्टिक और हेल्दी होता है। ये साइंटिफिकली प्रूवेन है कि भैंस के दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बहुत कम होती है। इसके अतिरिक्त भैंस के दूध में सिलेनियमए जिंकए अमीनो ऐसिड और एंटीऑक्सिडेंट्स सबसे अधिक मात्रा में मौजूद रहता है।

दोस्तों, जब हमारी बाॅडी में कैल्शियम की कमी हो जाती है तो हमारी हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं। एक समय ऐसा भी आता है जब हमारी हड्डियां जवाब दे जाती हैं और हम बिलकुल चल फिर नहीं सकते। ऐसी स्थिति को आने से पहले ही रोकने का काम करता है कैल्शियम जो कि भैंस के दूध  world milk day में सबसे ज्यादा पाया जाता है। इसके अतिरिक्त शरीर के विकास में भी भैंस का दूध सहायक होता है। ऐसे लोग जिन्हें हृदय से संबंधित कोई समस्या है उन्हें भैंस का दूध नियमित तौर पर पीना चाहिए।

3. बकरी का दूध

फ्रेंड्स, बहुत सी ऐसी बीमारियां हैं जिनमें बकरी का दूध पीने की सलाह डाॅक्टरों द्वारा दी जाती है। बकरी का दूध सबसे ज्यादा डेंगू के इलाज में फायदा करता है। डेंगू के मरीज के लिए यह दूध रामबाण साबित होता है। जो मरीज डेंगू से पीड़ित है उसे बकरी का दूध पीना चाहिए। क्योंकि बकरी के दूध में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो हमारे प्लेटलेट्स काउंट को बढ़ाते हैं।

Read Also: हल्दी से यारी हितकारी | Haldi Ke Fayde

बता दें, जिन लोगों का प्लेटलेट्स 9000 या उससे कम होता है, ऐसे लोगों को जान का खतरा रहता है। कुछ लोग गाय के दूध की अपेक्षा बकरी के दूध को ज्यादा पौष्टिक मानते हैं। खासकर नवजात शिशुओं के लिए दुनिया भर के साइंटिस्टों ने एक स्टडी की। इसमें पाया गया कि बकरी का दूध पचाने में आसान है। इसके अलावा इसमें ऐल्कलाइन होता है।

बकरी के दूध में फैट की मात्रा भी बहुत कम होती है। जबकि गाय के दूध की तुलना में इसकी सहनशीलता भी अधिक है। बकरी का दूध पीने से आपके शरीर का मैटाबाॅलिस्म बढ़ जाएगा। साथ ही इम्यून सिस्टम पर भी काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। इस दूध में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। दिल की बीमारी में भी इस दूध के सेवन से काफी फायदा पहुंचता है।

सो फ्रेंड्स, आपने जाना कि कैसे दूध पीना हमारे लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है। इस आर्टिकल में बस इतना ही। आपसे फिर होगी मुलाकात, एक नए टाॅपिक के साथ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here